मेरी सांसें…

1
727
मेरी सांसें खुद जब साथ मेरा ना दे पाएंगी,
फिर किस तरह साथ मेरा तुम दे पाओगी।
    सफर 39 सालों का कट गया अपना,
    खट्टी मीठी यादों का बन गया सपना।
    बीती बातें याद आ कर तुम्हें सताएंगी,
     पर तुम मुझे पास ना अपने पाओगी।
                                      मेरी सांसें…
    घर में जब जब तू नयी चीजें बनायेगी,
    खिलाने के वास्ते मुझे ना ढूंढ़ पाओगी।
    अब ज़बरदस्ती चीजें खिला ना पायेगी,
    मुख मेरे में चीजों को ना डाल पाओगी।
बृज किशोर भाटिया, चंडीगढ़

1 COMMENT

  1. Greetings! I know this is kinda off topic however , I’d figured I’d ask. Would you be interested in exchanging links or maybe guest authoring a blog post or vice-versa? My blog goes over a lot of the same subjects as yours and I believe we could greatly benefit from each other. If you’re interested feel free to send me an e-mail. I look forward to hearing from you! Wonderful blog by the way!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.