खालसा कॉलेज, मोहाली ने अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया

0
213

मोहाली

6 मार्च 2024

दिव्या आज़ाद

खालसा कॉलेज (अमृतसर) आफ टेक्नोलॉजी एंड बिजनेस स्टडीज, फेस 3ए में अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया।

इस अवसर पर कार्यक्रम में विशेष रूप से पहुंची सांस्कृतिक संरक्षणवादी, संगीतकार, सामाजिक प्रभावक सुनैनी शर्मा, गर्ल्स राइज फॅार मोहाली संस्था की फाउंडर उपिंदरप्रीत कौर गिल, प्रसिद्व नाटकार, डायरेक्टर, एक्टर गुरिंदर एस मकना, सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षाविद सुरजीत कौर, समाज सेवी तथा पूर्व डीपीआर मोहाली डॉ उमा शर्मा को कॉलेज की प्रिंसीपल डॉ हरीश कुमारी ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और कहा कि समाज के विकास में महिलाओं की भूमिका अहम है, उनका सम्मान बेहद जरूरी है। हर क्षेत्र में उनकी जबरदस्त कामयाबी पर हमें गर्व करना चाहिए।

कार्यक्रम की शुरुआत महिलाओं पर आधारित एक लघु नाटिका का मंचन के साथ हुई। जो कि ‘माये नी मैं किन्नू आखा’ विषय पर था, जिसे सभी ने खूब सराहा।

कार्यक्रम के दौरान गर्ल्स राइज फॅार मोहाली संस्था की फाउंडर उपिंदरप्रीत कौर गिल ने इस अवसर पर कहा कि ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसमें महिलाओं ने अपनी पहचान नहीं बनाई है। महिलाएं राष्ट्र और हमारे समाज के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण धुरी हैं। उन्होंने कहा कि पुरुषों द्वारा महिला सशक्तिकरण को स्वीकार करना आज की जरूरत है। गुरिंदर एस मकना ने कहा कि कला से जुड़े लोग हमेशा समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं। भारत में महिलाओं ने कला में उल्लेखनीय योगदान दिया और उनके योगदान को सभी कलात्मक हलकों में सराहा गया।

सुनैनी शर्मा ने अपने अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि किसी भी देश का विकास वहां की महिलाओं की शिक्षा में निहित है। महिलाएं स्वयं में एक पूर्ण चक्र हैं, जो कुछ भी सही है उसके लिए लडऩे के लिए उसके पास अपनी क्षमता है। आज महिला न केवल अपने स्वयं के अधिकारों की रक्षा करती है, बल्कि दूसरों के अधिकारों की भी कीमत और रक्षा करती है।

इस अवसर पर सुरजीत कौर ने महिला दिवस के महत्व पर प्रकाश डाला। डॉ उमा शर्मा ने महिला की सुरक्षा और आत्मसम्मान की बात पर जोर दिया।

कार्यक्रम का समापन पर प्रिंसीपल डा. हरीश कुमारी ने आए हुए सभी मेहमानों व अन्य गणमान्य व्यक्तियों का आभार व्यक्त किया।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.