वन्य जीव प्रकृति की अनमोल धरोहर : डॉ. विनोद शर्मा

0
1345
चण्डीगढ़
4 अक्टूबर 2017
दिव्या आज़ाद
महर्षि दयानन्द पब्लिक स्कूल दरिया, द्वारा पर्यावरण विभाग चण्डीगढ़ प्रशासन के सहयोग से आयोजित वाइल्ड लाइफ वीक -2017 स्वच्छ्ता और पौधरोपण से शुरू हुआ। अध्यापकों और विद्यार्थियों ने  मिलकर गांव की सफाई की।  उन्होंने सफाई अभियान के तहत गलियों और खुली जगह पर बिखरे कूड़े -करकट को उठाकर उचित स्थान पर गिराया। कई स्थानों पर बरसात में उगी झाड़ियों और घास को भी उखाड़ा। इसके बाद उन्होंने  पौधरोपण किया। स्टूडेंट्स ने इस मौके स्थानीय लोगों को भी वातावरण को स्वच्छ बनाने और अपने इर्द- गिर्द  सफाई रखने का आग्रह किया। कार्यक्रम के पूर्व लेक्चर के  दौरान प्रिंसिपल डॉ. विनोद शर्मा ने विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कि प्रत्येक व्यक्ति को प्रकृति  और वन्य जीवों के प्रति लगाव रखना चाहिए।  यह हमारे नीरस जीवन में रंग भरते हैं।  दौड़-धूप की जिंदगी में उलझनों से निकलने के लिए कुछ समय प्रकृति की गोद में बिताना चाहिए। वनों के बिना वन्य प्राणियों का अस्तित्व संभव नहीं है।  वन जहां पर्यावरण को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाते हैं वहीं प्राणी भी वातावरण की मनमोहक प्रस्तुति देते हैं। इनके बिना मनुष्य का जीवन  नीरस एवं अधूरा है । वन्य प्राणियों की प्रजातियां लुप्त होने का मुख्य कारण वनों में हो रहे लगातार पेड़ों का कटान तथा शिकार है। मनुष्य स्वार्थपरता के कारण जानवरों का शिकार उसकी फर, स्किन, टस्कस और हड्डियों के लिए कर रहा है। इससे  वन्य प्राणियों का जीवन असुरक्षित है। वन्य जीवन प्रकृति की अनमोल धरोहर है। इसका संरक्षण किया जाना अति आवश्यक है। वन ही वन्य जीवों को आवास प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि इको क्लब के स्टूडेंट्स वन्य प्राणियों को बचाने के लिए लोगों को जागरूक करने में अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं।
 इस मौके पर इको क्लब इंचार्ज सुखविंदर सिंह ने कहा कि पेपर का इस्तेमाल को सूझबूझ से करने की जरूरत है। पेपर बनाने के लिए पेड़ों को काटना पड़ता है।  उन्होंने स्टूडेंट्स को पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने जू, वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी, वनों आदि पर विस्तृत प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वाइल्ड लाइफ वीक के आयोजन का मुख्य उद्देश्य दुर्लभ वन्य प्रजातियों को बचाना तो है ही साथ ही अधिक पेड़ पौधे लगाकर वन्य क्षेत्रों का दायरा बढ़ाना और पर्यावरण को स्वच्छ  बनाना भी है।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.