सरकारी जमीनों के कब्जे छुड़ाने का पंजाब सरकार का प्रयास सराहनीय: विक्रम बाजवा

0
190

चण्डीगढ़

18 मई 2022

दिव्या आज़ाद

इंडस फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रवासी भारतीय विक्रम बाजवा ने आज यहां चण्डीगढ़ प्रेस क्लब में आयोजित एक पत्रकार वार्ता में पंजाब की भगवंत मान सरकार से प्रवासी भारतीयों की समस्याओं के हल की मांग की है। इस संदर्भ में उन्होंने मुख्यमंत्री भगवंत मान और पंचायत एवं एनआरआई मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल को पत्र लिखा है।


बाजवा ने पत्रकारों से बातचीत करते कहा कि पंजाब के प्रवासी भारतीयों को पंजाब की वर्तमान सरकार से बड़ी अपेक्षाएं हैं। इस सरकार के गठन में प्रवासी भारतीयों का बड़ा योगदान है।


उन्होंने पंजाब सरकार से मांग की कि जिस प्रकार सरकार सरकारी जमीनों के कब्जे हटवा रही है एक सराहनीय काम है। उन्होंने कहा प्रवासी भारतीयों की जमीनों पर बड़े असरदार लोगों ने कब्जे कर रखे हैं। इन के मामले अदालतों में सालों-साल से लंबित पड़े हैं। प्रवासी भारतीयों के विदेश में रहने का लाभ उठाते हुए लोगों ने सम्पतियों पर कब्जे कर रखे हैं। उन्होंने सरकार से मांग की है कि इन मामलों को अदालतों से निकाल कर पंचायत जमीनों की तर्ज पर कब्जे हटवाए और प्रवासी भारतीयों को सौंपे। उन्होंने बताया शुरुआती तौर पर 12700 के लगभग प्रवासी भारतीयों के मामले अदालतों में वर्षों से लटक रहें है। इसके अत्तिरिक्त जो लोग अभी अदालतों में नहीं गए उनकी संख्या इससे भी कहीं अधिक है।
बाजवा ने एक अन्य महत्वपूर्ण मुद्दा उठाते हुए मांग की कि पंजाब और दिल्ली में कनिष्क हवाई आतंकी हमले में हुए शहीदों की याद में कनाडा की तर्ज पर  मेमोरियल बनाया जाए। उन्होंने कहा कि कनाडा में इन शहीदों की याद में तीन शहरों में स्मारक बनाये गए हैं परन्तु भारत में एक भी नहीं हैं हालाँकि सभी मृतक भारत से ही जुड़े हुए थे।


उन्होंने कहा कि इस समारक के लिए अप्रवासी भारतीय फंड्स जुटाने को तैयार हैं, बस सरकार उचित जगह की व्यवस्था कर दे। इसके अलावा बाजवा ने पंजाब में एनआईआर सभा को भी भंग करने की मांग करते हुए कहा कि इस संस्था का कोई वजूद नहीं रह गया है। पिछले कुछ वर्षों से पंजाब में अप्रवासी भारतीय सम्मलेन करवाने में भी यहां की पिछली सरकारें व एनआईआर सभा उदासीन रहीं हैं।  

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.