धार्मिक प्रचारक या किसी अन्य पर भी बलात्कार का मामला दर्ज करने से पहले अच्छी तरह जांच पड़ताल करें 

0
117

चंडीगढ़

2 नवंबर 2018

दिव्या आज़ाद

क्रिस्चियन दलित फ्रंट के महासचिव अनवर मसीह, उर्मिल, पंकज, अनिका, पास्टर सुनील और कुछ संस्थाओं ने चंडीगढ़ प्रैस क्लब में जालंधर के पास्टर बजिंदर पर लगे आरोपों के खिलाफ और उसके हक में प्रैस वार्ता करने चंडीगढ़ पहुंचे और बताया कि जिस महिला अमनप्रीत ने बलात्कार का आरोप लगाया है वह सारा झूठ है। दो बच्चों की माँ अमनप्रीत पहले भी जम्मू और चंडीगढ़ निवासी के खिलाफ रेप का मामले दर्ज करा चुकी है। इसका हमारे पास सबूत मौजूद है लेकिन बाद में उस ने इनसे आपसी फैसला कर लिया था । अमनप्रीत ने जिस मकान में बलात्कार करने का आरोप लगाया था उसकी मकान मालिक भी प्रैस वार्ता में सम्मिलित हुए जिन्होंने बताया कि वह मकान किसी और को पहले ही किराए पर दिया जा चुका था। पादरी बजिंदर की पत्नी भी आज की प्रैस वार्ता में शामिल हुई और अपने पति की बेगुनाही की दुहाई दी और कहा कि अमनप्रीत ने एक साल बाद ही क्यों आरोप लगाए जबकि आज भी पादरी बजिंदर पर लोग श्रदा रखते हैं उन्होने कहा कि न्याय पालिका पर हमें पूरा भरोसा है। ऑल इंडिया क्रिस्चियन कमेटी के प्रधान अनवर मसीह ने पादरी बजिंदर के मामले में कहा कि हालांकि उन्हें हाई कोर्ट से जमानत मिल गई है पर उन पर लगने वाले आरोप पूर्णतया गलत हैं क्योंकि जिस लड़की अमनप्रीत ने उन पर आरोप लगाए हैं वह लड़की पहले ही दो अलग-अलग मामलों में यही आरोप दो अन्य लोगों पर भी लगा चुकी है। इसके साथ ही अमनप्रीत के अनुसार जिस मकान में ७ नवंबर २०१७ को उसने अपने साथ बलात्कार होने का आरोप लगाया है वह मकान १ नवंबर को ही किसी और को किराए पर दिया जा चुका था। यह सरासर पास्टर को बदनाम करने की साजिश है हम सरकार से अपील करते हैं कि धार्मिक प्रचारक या किसी अन्य पर भी बलात्कार का मामला दर्ज करने से पहले अच्छी तरह जांच पड़ताल करने के बाद ही मामला दर्ज करना चाहिए जिस से उनकी समाज में बदनामी ना हो।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.