पंजाब के पूर्व मुख्य मंत्री सरदार बेअंत सिंह व साथ शहीद हुए नौजवानों को ब्लड कैंप लगाकर दी श्रद्धांजलि

0
528
चंडीगढ
2 सितंबर 2020
दिव्या आज़ाद
पंजाब में आतंकवाद के सफाये के लिए संघर्ष करते शहीद हुए पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह को आज तीसरा ब्लड कैंप लगाकर सी. आर. पी. एफ / पंजाब पुलिस/ एन.आई.सी के जवानों को पंजाब व हरियाणा सेक्रेटेरिएट सैक्टर -1 चंडीगढ़ में  श्रद्धांजलि अर्पित की गई। श्रद्धांजलि समारोह बेअंत सिंह के हत्याकांड के गवाह बलविंदर सिंह बिट्टू द्वारा आयोजित किया गया !
 भजनों की ध्वनि के बीच बडी संख्या में लोगों ने पुष्पांजलि अर्पित की। इस मौके पर पहुंचे बेअंत सिंह के पौत्र और लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू अपने दादा को व उनके साथ शहीद हुए नौजवानों को पुष्पांजलि व्यक्त करने के बाद बिट्टू ने कहा कि बेअंत सिंह के श्रद्धांजलि पर सर्वधर्म प्रार्थना सभा करवाई गई। इस राज्य स्तरीय समारोह में पहुँची शख्सियतों ने उनकी समाधि पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धाँजलि अर्पित की। देश की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए नशें, आतंकवाद, अलगाववाद और भ्रष्टाचार के खि़लाफ़ शपथ ली गई, वहीं पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में मारे गए सैनिकों को भी श्रद्धाँजलि अर्पित की गई।
समारोह में बड़ी संख्या में  नेताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्धाँजलि अर्पित करते हुए उनके द्वारा राज्य में  शान्ति बहाल करने और आतंकवाद के ख़ात्मे के लिए किये गए प्रयत्नों को याद किया। यह भी याद किया गया कि पंजाब के मुश्किलों से भरे दौर में  बेअंत सिंह ने एक निडर मुख्यमंत्री के तौर पर जिम्मेदारियां निभाईं गईं। वे हमेशा सख़्त और समर्पित नेता के तौर पर याद किये जाएंगे। राजनितिक गतिविधियों से ऊपर उठकर श्रद्धाँजलि अर्पित करते हुए न्यू कांग्रेस पार्टी (एन.सी.पी) युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष व नौजवान क्रांतिकारी सेवा दल के चेयरमैन व अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर म्युनिसिपल एमेनिटीज डिपार्टमेंट गवर्नमेंट ऑफ़ पंजाब के सदस्य श्री विवेक हंस गरचा जी ने इस मौके पर कहा कि रक्त दान-जीवन दान है यदि आप का रक्त किसी का जीवन बचा सकता है तो कुर्पा कर रक्त दान करके किसी को नई ज़िन्दगी जीने का मौका प्रदान करें ताकि समाज में इंसानियत की मिसाल ज़िंदा रह सके ! “ब्लड बैंक” एक ऐसी जगह है…जहाँ के रक्त में कोई भेदभाव नहीं ब्लड बैंक ही एक ऐसी जगह है जहाँ कोई नहीं पूछता कि खून सिख का है, हिन्दू का है, मुस्लिम का है या ईसाई का या जनरल / एस.सी – एस.टी / ओ.बी.सी किस जात का है इंसानियत मानवता सिर्फ ब्लड बैंक में नज़र आती है उन्होंने शहर वासियों से अपील की कि आज सत्ताधारी नेताओं से प्रतेक वर्ग को अपना मजहब बचाने की जरूरत है विवेक हंस गरचा कहा कि सभी लोग विशेष धर्म, जाती वर्ग से ऊपर उठकर समाज सेवा के लिए आगे आकर ज़िंदादिल इंसानियत की मिसाल पेश करें !

विवेक हंस गरचा ने कहा कि कई देश विरोधी ताकतें पुलवामा जैसे आतंकवादी हमले करके देश की एकता और अखंडता को हानि पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं परन्तु लोग ऐसे मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा बेअंत सिंह ने राज्य की एकता और भाईचारे  को बहाल करने में अथक योगदान दिया था और अब हम देश के सामाजिक ताने -बाने को हानि पहुंचाने वालों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने देंगे। सरदार बेअंत सिंह ने पंजाब को नये मार्ग पर लाने के लिए अपनी जान भी दांव पर लगा दी । हमें आज उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने की ज़रूरत है।

प्रार्थना सभा में  बेअंत सिंह के पारिवारिक सदस्यों सांसद रवनीत सिंह बिट्टू, विवेक हंस गरचा, बलविंदर सिंह बिट्टू, डी.एस.पी गुरबाल सिंह पंजाब पुलिस, लवी अग्रवाल, दीपक तेजी के इलावा बडी संख्या में नेताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.