2024 तक 100 करोड़ आमजन को अखिल भारतीय परिवार पार्टी की विचारधारा के साथ जोड़कर भारत का परिदृश्य बदलेंगे – राजीव पार्टी अध्यक्ष

0
414

चंडीगढ़

18 अगस्त 2021

दिव्या आज़ाद

भारतीय जनता पार्टी की वेबसाइट ‘बीजेपी डॉट ओआरजी’ पर एक पीडीएफ फाइल है जिस पर लिखा है कि ‘गुजरात मॉडल’ एक विज़न है जिसका इंतज़ार देश कर रहा है. इस फाइल को लोकसभा चुनाव के लिए बनाया गया था. फाइल के कवर पर ही एक नारा है- ‘वोट फोर इंडिया, वोट फोर मोदी.’

फाइल में बताया गया है कि गुजरात मॉडल का मतलब है- भरपूर नौकरी, कम मंहगाई, ज़्यादा कमाई, तीव्र गति से अर्थव्यवस्था का विकास, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, दुरुस्त सुरक्षा और बेहतरीन जीवन। लेकिन जमीनी हकीकत तो कुछ और ही है।


बुधवार को सर्किट हाउस, अहमदाबाद में अखिल भारतीय परिवार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव सिंह कुशवाहा भारतीय व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हरप्रीत सिंह सैनी भारतीय व गुजरात के पदाधिकारियों ने गुजरात मॉडल के सामने सटीक सवाल पूछ लिए।

1) गरीबों के लिए न्याय की व्यवस्था में कमी है। सालों पहले एक गरीब को जिस तरह से न्याय के लिए संघर्ष करना पड़ता था, वो अब भी जारी है। जिसमे कोई महत्वपूर्ण सुधार अब तक नही किया गया।

2) राजनेताओं से लेकर चौथे दर्जे के कर्मचारी तक हर स्टेज पर भ्रष्टाचार का बोलबाला है

3) देश का पेट भरनेवाले हमारे अन्नदाता के लिए वादे कुछ और होते हैं व मिलता कुछ और है।
कई जगहों पर ना तो पूरा एमएसपी दिया जाता है ना ही फसल बीमा का मुआवजा मिलता है
मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना,
सुजलाम सुफलाम जैसी कई योजनाएं, जिसके तहत 2016 में मिलनेवाले लाभ अभी तक नही मिले हैं।

4) गुजरात सरकार का दावा है कि पिछले डेढ़ साल के करोना काल में लगभग 3.25 करोड़ लोगों को सरकारी अनाज बांटा गया यदि 6.5 करोड़ में से 3.25 करोड़ को मुफ्त अनाज बांटने की नौबत आ गई है तो इसका मतलब लगभग 50% गुजरात अभी भी गरीबी रेखा के आसपास ही मंडरा रहा है, तो कहाँ है विकास ?

5) किसी भी समाज में शिक्षा ही विकास का प्रतिबिंब होती है यदि “गुजरात मॉडल” विकास को दर्शाता है तो पिछले डेढ़ साल में सैकड़ों स्कूल करोना काल के बहाने बंद हो चुके हैं, सरकार ने इस मामले में कुछ नही किया । तो क्या यही है गुजरात मॉडल।

6) युवाओं के रोजगार की बात करें तो या तो सरकारी नौकरियों के लिए विज्ञापन चुनाव के समय ही दिए जाते है।
भर्ती विज्ञापन दिए जाते है तो परीक्षाएं नही होते।
परीक्षा होती हैं तो रिजल्ट नहीं आता। रिजल्ट होते हैं तो रिक्रूटमेंट नहीं होते तो बेरोजगारी इस वक्त गुजरात में चरम सीमा पर है।

राजीव कुशवाहा भारतीय व हरप्रीत सैनी भारतीय ने कहा- हमारी पार्टी जनसाधारण की आवाज है व 2024 में पूरे भारत में चुनाव लड़ने की मंशा से सारे देश से साधारण भारतीय की सेना तैयार हो रही है वह हमारी पार्टी के मॉडल में न तो करप्शन का कोई स्थान रहेगा इसी के साथ किसानों के लिए एक आयोग का गठन किया जाएगा व हर समस्या का समाधान मूल रूप से किया जाएगा ताकि सिर्फ गुजरात ही नहीं सारे देश को आदर्श मॉडल की तरह पूरे विश्व के समक्ष पेश कर सकें।


कार्यक्रम के अंत में पार्टी की गुजरात प्रदेश अध्यक्ष हरेश रावल भारतीय और प्रदेश प्रभारी नितेश गंगारामाणी भारतीय ने सभी का धन्यवाद दिया व असल मायनों में गुजरात मॉडल का वायदा किया , आज पार्टी कार्यकरिणी से राजेश्वर भट्ट, चंद्रेश परमार, भाग्येश प्रजापति , मनोहर संधू भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.