एन जी ओ परिवर्तन द्वारा वन संरक्षण व चंडीगढ़ हेरिटेज पेड़ों के देखरेख की पहल 

0
228

चंडीगढ़

18 जून 2021

दिव्या आज़ाद

चंडीगढ़ में 31 पेड़ों को हेरिटेज  का दर्जा मिल चुका है , इनमें सबसे वृद्ध *वट वृक्ष पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज स्तिथ की विधिवत  पूजा अर्चना व रक्षा सूत्र बांधकर  चंडीगढ़* से महारानी लक्ष्मीबाई के शौर्य दिवस पर 18 जून को बुंदेलखंड में जंगल बचाओ अभियान को सहयोग  की शुरुआत की गई ।


एन जी ओ परिवर्तन की फाउंडर रेणुका शर्मा ने कहा कि चंड़ीगढ़ प्रशासन के ग्रिनिंग चंडीगढ़ प्लान का खुले दिल से स्वागत करती है ,लेकिन साथ साथ प्रशासन  यह भी यकीनी बनाये की प्लान पर वाकई एक्शन हो । हमारी संस्था चंडीगढ़ के  सभी हैरिटेज पेड़ों की देखरेख के लिए अपने वालंटियर्स के सेवा देने तैयार हैं । ये पेड़ हमारे बजुर्ग है व किसी भी कीमत पर इन्हें संजोए रखने में हम सभी शहरवासी प्रशासन की लाठी बन कर साथ निभाने का प्रण ले रहे है । उन्होंने बताया कि पूरे देश में यदि  कहीं भी पेड़ काटने की नौबत आई तो हम उनके साथ खड़े है जैसे कि आज  महारानी लक्ष्मीबाई के शौर्य दिवस पर बुंदेलखंड के वनों को संरक्षित करने में हम प्रयासरत हैं। आज रेणुका के साथ ,उषा शर्मा, उषा यादव,वंदना, पंकज बाला ,ज्योति वर्मा  मौजूद रहे ।

शहर में नगर निगम 60 हजार पौधे लगाएगा

शहर में 2021-2022 के लिए जारी किए गए ग्रीनिंग एक्शन प्लान में कुल 1.75 लाख पौधे लगाए जाने का टारगेट तय किया गया है। फाॅरेस्ट डिपार्टमेंट 75 हजार पौधे लगाएगा। प्रशासन के इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट का होर्टिकल्चर विंग 40 हजार पौधे और निगम 60 हजार पौधे लगाएगा।ग्रीन सिटी को ग्रीन रखने के लिए जरूरी हैं पौधे। इसके लिए वीरवार को प्रशासक वीपी सिंह बदनोर ने इस साल के लिए फाॅरेस्ट एंड वाइल्ड लाइफ डिपार्टमेंट की तरफ से तैयार किए गए ग्रीनिंग एक्शन प्लान 2021-2022 को लॉन्च किया।इसमें बताया गया कि इस साल 1.75 लाख नए पौधे लगाए जाएंगे। चंडीगढ़ में हर साल मानसून के दौरान ग्रीनिंग एक्शन प्लान जारी किया जाता है। इसमें तय किया जाता है कि कितने पौधे साल में लगेंगे। इस मौके पर प्रशासक ने सभी शहरवासियों, फाॅरेस्ट डिपार्टमेंट व बाकी विभागों की प्रशंसा की। इस मौके पर चीफ कंजर्वेटर ऑफ फाॅरेस्ट देबिंद्र दलाई ने कहा कि चंडीगढ़ में इस समय 46 फीसदी फाॅरेस्ट और ग्रीन कवर है, जिसको बढ़ाने की कोशिश सभी मिलकर करेंगे।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.