अवि भसीन ने बजट 2020-21 की सराहना की व पीएम को बधाई दी

0
1354

चंडीगढ़

2 फरवरी 2020

दिव्या आज़ाद

भाजपा इंडस्ट्रियल सेल अध्यक्ष अवि भसीन ने शनिवार को पेश केन्द्रीय बजट को अच्छा बताया और स्वागत करते हुए कहा कि आयकर स्लैब में बदलाव का प्रस्ताव ऐतिहासिक है। ईमानदार टैक्स पेयर की बहुत समय से मांग थी कि उन्हें आयकर देने में राहत दी जाए, जिसे वित्तमंत्री सीतारमण में पूरा किया। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्तमंत्री धन्यवाद की पात्र है। इस बजट में युवाओं को उच्च क्वालिटी शिक्षा देने का विजन है। साथ ही राष्ट्रीय रिक्यूटमेंट एजेंसी बनाने की घोषणा बहुत अच्छी है। जिससे युवाओं के लिए रोजगार की असीम संभावनाएं पैदा होंगी।
भाजपा नेता अवि ने कहा कि बजट में उद्योग जगत का भी पूरा ध्यान रखा गया है। छोटे उद्योगों को बैंकों से कर्ज देने के प्रस्ताव से औद्योगिक जगत राहत महसूस कर रहा है। 
उन्होंने कहा कि पिछले दो साल में जीएसटी में दो लाख नये करदाता जुड़े हैं। इसके तहत 40 करोड़ रिटर्न दाखिल किये गये हैं तथा 105 करोड़ ई-वे बिल सृजित हुए हैं। जीएसटी के क्रियान्वयन के बाद हर परिवार को मासिक व्यय में चार प्रतिशत की बचत हो रही है।
इंडस्ट्रियल सेल के अध्यक्ष भसीन ने कहा कि पांच लाख रुपये तक की आय पर नहीं देना होगा कोई कर। अब 5-7.5 लाख रुपये तक की आय पर देना होगा 10 फीसद की दर से कर। इसके साथ ही 7.5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक की आय पर 15 फीसद की दर से कर का भुगतान करना होगा। 10-12.5 लाख रुपये तक की आय पर 20 फीसद का टैक्स। इसके साथ ही 12.5 लाख रुपये से 15 लाख रुपये तक की कमाई पर अब टैक्स रेट 25 फीसद होगा। 15 लाख रुपये से अधिक की आय पर 30 फीसद की दर से कर का भुगतान करना होगा, जो बहुत बड़ी बात है।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र जो हमारे देश की अर्थव्यवस्था का सबसे अहम क्षेत्र है खास तौर पर उत्तरी क्षेत्र का बजट में विशेष ध्यान रखा गया है। अवि ने कृषि क्षेत्र को नुक्सान पहुंचाने वाले कारकों का हल निकालने के लिए वित्त मंत्री की सराहना करते हुए कहा कि जल्दी खराब होने वाले खाद्य के लिए राष्टï्रीय कोल्ड चेन, पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप के तहत किसान रेल स्थापित करना, सौर उर्जा के लिए किसानों को प्रेरित करने के लिए इनसेंटिव देना तथा पानी की समस्या को दूर करने के लिए की गई घोषणाएं किसानों के लिए बेहद अहम है।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.