मंदिर बनाने के हक में देर से आया सुप्रीम कोर्ट का दरूसत फैसला- सतिगुरू दलीप सिंह जी

0
79
चंडीगढ़
11 नवंबर 2019
मनोज शर्मा
अयोध्या विवाद’ पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंदिर के हक में सुनाए फैसले का स्वागत करते हुए नामधारी मुखी सतिगुरू दलीप सिंह जी ने कहा कि मंदिर के हक में आया फैसला, चाहे देर से ही आया, एक दम दरूसत फैसला है। इसकी जितनी भी प्रशंसा की जाये उतनी ही कम है। उन्होंने कहा कि हम ने शुरू से ही राम मंदिर के हक में आवाज बुलंद की थी। उन्होंने कहा कि यह किसी एक पक्ष की जीत या हार नहीं है बल्कि सच्चाई की जीत है और यह भी कहा कि प्रत्येक पक्ष को इस फैसले का स्वागत करना चाहिए क्योंकि भगवान राम चन्द्र जी केवल हिन्दुओं के ही नहीं बल्कि सभी के भगवान हैं। जिन्होंने अपने पिता जी की आग्या को मानते हुए 14 साल का वनवास भी व्यतीत किया। उन्होंने इतिहास की बातें साँझा करते हुए कहा कि मुगल राज के समय मुसलमान राजाओं द्वारा अनेक मंदिरों को तोड़ कर मस्जिदें बनाई गई, जिस के बारे में हमारी गुरवाणी में लिखा है “ठाकुर दुआरे ढाहिकै तिहि ठउड़ी मासीत  उसारा”। एक ही नहीं बल्कि लाखों मंदिर तोड़ के मस्जिद बनाई गई हैं। आज जो सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर बनाने की आज्ञा दे दी है, हम नामधारी संगत उसका बहुत-बहुत स्वागत और खुलकर समर्थन करते हैं। हिन्दुओं और सारे भारत वासियों को हम बधाई देते हैं। इस मौके पर नवतेज सिंह  नामधारी, हरविन्द्र सिंह नामधारी, हरभजन सिंह फौरमैन, गुरमेल बराड़, तजिंदर सिंह नामधारी (विश्व हिन्दू परिषद), अजमेर सैनी, प्रभजिन्दर सिंह प्रिन्स, सेवक देव सिंह और अरविंद्र सिंह लाड़ी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.