“समस्या पानी की”

0
1111
दुनिया के बदलते तेवर देख
मौसम मिज़ाज़ बदलने लगा
भीषण गर्मी के बढ़ते पारे से
चेहरे से पसीना टपकने लगा
            ग्लोबल वार्मिंग के कारण
            पीने का पानी घटने लगा
            सूखे तालाबों के कारण
            पशु/पक्षी भी मरने लगा
जब करें प्रकृति से छेड़छाड़
परिणाम हमें भुगतना होगा
जंगलों पर प्रहार करेंगे हम
पानी के लिए तरसना होगा
             पूजा स्थलों में जाकर हम
             जल को व्यर्थ नही बहाएंगे
             आस्था भी रंग ले आएगी
             जब पानी को हम बचाएंगे
एक दूसरे को दोष देते रहेंगे तो
पानी की समस्या टल न पाएगी
हर कोई अगर अपना दे सहयोग
पानी की समस्या निबट जाएगी।
बृज किशोर भाटिया,चंडीगढ़।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.