“पुलवामा नरसंहार”

0
202
  होंठ थरथरा रहे हैं जुबां से बयां करके
आंखें भी नम हुईं मंज़र को देख करके
माताएं पथराईं बेटों की लाशें देख करके
पाई शहादत मां की कोख को धन्य करके
           आतंकवाद को घाटी में फैलाने वालों
           गद्दारी देश से करो दुश्मन के दलालों
           भारत में पाक के झंडे फहराने वालों
           सैनिकों पर तुम पत्थर बरसाने वालो
 पुलवामा में 40 सैनिकों के हत्यारों
 शर्म ना लज्जा तुम्हें देश के गद्दारों
 बहुत कर चुके तुम भूखे भेड़ियों
 संहार होगा अब तुम्हारा भेड़ियों
        पुलवामा के नरसंहार का हिसाब होगा
        देश के गद्दारों का अब लिहाज ना होगा
        लूटा है देश तुमने उसका हिसाब होगा
        देश वासियों का अब तुम पे कहर होगा
कितनी सुहागनों को तुमने विधवा बनाया
कितनी माताओं की कोख को सुना कराया
कितने बच्चों को तुमने है अनाथ बनाया
कितनी बहनों के भाईयों को है मरवाया
          दुश्मन ओर गद्दारों का अब सफाया है होना
          उजड़ी कोखों/अनाथों का हिसाब है होंना
          देश एक जुट है तो अब विलम्ब क्यूं होना
          निष्चित है दुश्मन का अब अंत है होना
  हर दिल मे जली है बदले की चिंगारी
  ना बुझेगी, पाक को राख करे चिंगारी
 शहादत वीर सैनिकों की व्यर्थ ना होगी
 हर दिल में ज्योत उनकी प्रज्वलत होगी
जय हिंद।
बृज किशोर भाटिया,चंडीगढ़

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.