चंड़ीगढ के आरक्षित सीट से जीते हुए पार्षद को एक खुला पत्र

0
144
चंडीगढ़
आप जानते है देश में आजकल मूर्ति तोड़ने का अभियान भाजपा की केंद्र सरकार के रहते हुए कुछ तथाकथित देशभक्तों द्वारा चलाया जा रहा है ।मैं #चंड़ीगढ से हूँ हमारे चंड़ीगढ नगर निगम में 26 पार्षद सीट में से 12 सीट #संविधान में दिए गये अधिकार के तहत आरक्षित की गई है ।जिनमें से 5 सीट अनुसूचित जाति के लिए व 7 महिलाओं के लिए आतंकित की गयी है । 12 में से 9 पार्षद भाजपा के व 3 कांग्रेस के है ।
मुझे उम्मीद थी कि यह पार्षद #बाबा_साहब की मूर्ति तोड़ने की कड़ी निंदा करते क्योंकि यह बाबा साहब की वजह से ही जीत दर्ज कर पाएं(शायद उन्हें ऐसा ना लगता हो )।हम चाहते थे कि यह लोग अपनी पार्टी व नगर निगम में इस का विरोध करती लेकिन ऐसा नही हुआ ।यह लोग वही है जो आरक्षण लेने के लिए आगे आ जाते है लेकिन जिस व्यक्ति ने इन्हें सदन मे बैठने का अधिकार दिया उसके मान सम्मान के लिए आवाज नही उठा पाते ।आप लोगों को समाज में हमारे मान सम्मान के लिए ही लोगों ने जितवा ताकि आप हमारी आवाज ऊपर तक पहुँचाए ।लेकिन बड़े शर्म की बात है आप मनुवादियों की गुलामी करने में मशगूल हो ।
आप लोगों को जरा भी शर्म है तो आप अपना इस्तीफा दो व जनरल सीट से चुनाव लड़े और जीत कर दिखांए या आप सभी मिलकर सदन में एक निंदा प्रस्ताव लेकर आंए जिससे की समाज में आपका व समाज का कद बढ़े।
निवेदक
देशराज सनावर
(Deshraj Sanawer)

LEAVE A REPLY