नाम उसी का

1
1409
थका पड़ा हूँ मैं पर मुझको चलना ज़रूर है,
वक्त बहुत कम है पर मंज़िल अभी दूर है ।
रास्ते तो बहुत हैं पर मुझे जाना किधर है,
कैसा नादान हूँ मैं मुझे ना खुद को खबर है।
चौराहे पर खड़ा होने से क्या राह मिल जाता है,
पूछने पर भी क्या कोई सही राह दिखाता है ।
कोई यह रास्ता तो कोई  वोह रास्ता दिखाता है,
अंत: नाम उसी का सबको मंज़िल पर पहुंचाता है ।
बृज किशोर भाटिया,चंडीगढ़
(Disclaimer- Content is Subject to Copyright)

1 COMMENT

  1. Hi! This is my first visit to your blog! We are a collection of volunteers and starting a new project in a community in the same niche. Your blog provided us useful information to work on. You have done a outstanding job!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.