मौत का आना

4
1251

अकस्मात घर में किसीका निधन हो जाना,
अनचाही मुसीबतों का जीवन में आ जाना।

खुशी से भरी जिंदगी को नज़र लग जाना,
चलती गाड़ी के जैसे पहिया थम जाना।

दारू पीने वाली महफिलों का थम जाना,
घर में बस मातम ही मातम छा जाना।

शौक जताने वालों का तांता लग जाना,
दोस्त और रिश्तेदारों से घर भर जाना।

क्या हुआ कैसे मरा,पूछे तो पड़े बताना,
यही बताते बताते घर वालों का थक जाना।

जीते जी मिले जिसे हर बात बात पर ताना,
मर गया तो तारीफ करें,दुनिया का क्या कहना।

जन्म लेते ही बच्चों को पड़े क्यों रोना,
अब समझे जीवन को सरल नही है ढोना।

मौत का आना खुद ज़िन्दगी का रुख्सत हो जाना,
मिला झंझटों से छुटकारा लम्बी नींद का आना।

बृज किशोर भाटिया, चंडीगढ़

4 COMMENTS

  1. Thank you for the auspicious writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to far added agreeable from you! However, how can we communicate?

  2. Wonderful beat ! I would like to apprentice at the same time as you amend your site, how can i subscribe for a weblog web site? The account helped me a acceptable deal. I have been tiny bit acquainted of this your broadcast offered vibrant transparent concept

  3. What’s Happening i am new to this, I stumbled upon this I have found It absolutely helpful and it has aided me out loads. I hope to contribute & help other users like its helped me. Great job.

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.