फिर से विवादों में घिरे कुलबीर सिंह जीरा–पीडि़त किसान ने डीजीपी से लगाई गुहार

0
214
चंडीगढ़
25 अप्रैल 2019
दिव्या आज़ाद 
पंजाब के फिरोजपुर जिला से संबंधित कांग्रेसी विधायक कुलबीर सिंह जीरा एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। फिरोजपुर जिला के गांव चक सोमिया वाला के प्रगतिशील किसान पीप्पल सिंह सिद्ध ने विधायक व उसके साथियों पर अपनी 80 एकड़ जमीन पर कब्जा करके  वहां से गेहूं काटने तथा पंजाब पुलिस द्वारा उनके विरूद्ध झूठे मामले दर्ज किए जाने का आरोप लगाया है।
पीप्पल सिंह सिद्ध ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में बताया कि सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने उसकी कंपनी नाइसर ग्रीन फोरैस्ट को वर्ष 2010 में बंद कर दी थी। दूसरी कंपनी नाइसर ग्रीन हाउसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर डिवैल्पर इंडिया को वर्ष 2012 तथा एनजीएचआई डिवैल्पर को सेबी द्वारा वर्ष 2014 में बंद कर दिया गया था। उनके द्वारा सेबी के विरूद्ध दायर की गई याचिका सुप्रीम कोर्ट में लंबित है।
यह मामला सेबी में विचाराधीन होने के बावजूद फिरोजपुर पुलिस द्वारा उनके विरूद्ध पांच अलग-अलग मामले दर्ज कर दिए गए। फिरोजपुर पुलिस ने वर्ष 2016 में उन्हें गिरफ्तार करके जेल भेज दिया। हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद डीजीपी ने एसआईटी का गठन कर दिया। एसआईटी की रिपोर्ट के बाद पुलिस ने मामले रद्द कर दिए और उन्हें अदालत ने रिहा कर दिया।
पीप्पल सिंह सिद्ध ने बताया कि वर्ष 2017 में जब वह जेल में था तो पीछे से विधायक कुलबीर सिंह जीरा व उसके साथी हरभजन सिंह व अन्य लोगों ने उनकी गांव बहादुर के थाना सिद्धया बेट जगराओ जिला लुधियाना मे पडती 80 एकड़ जमीन पर असलाधारी गुडे बिठा कर कब्जा लिया गया। यह जमीन उनकी पत्नी सुरिंदर कौर सिद्ध के नाम है। जीरा के कहने पर पुलिस ने पीप्पल सिंह की पत्नी के विरूद्ध भी मामला दर्ज कर दिया और कथित गुंडों ने पहले धान और अब गेहूं की फसल भी काट डाली। हमारी मालकी जमीन होने के बावजूद भी हम वहां नहीं जा सकते क्योंकि जीरा और उसके साथी हरभजन सिंह ने वहां से असलाधारी गुंडों को  बिठाया हुआ है ।जिसके बारे में हमने एसएसपी जगराओं को भी बताया लेकिन उसने कोई भी कार्रवाई नहीं की बल्कि वहां के डीएसपी ने  मुझे डराया धमकाया  कि अगर तुम वहां जाओगे तो तुम पर 307 के मामला की कार्रवाई की जाएगी। क्योंकि मुझे पहले भी सियासी दबाव के कारन हुए झूठे मामलों में  2 साल  जेल काटनी पड़ी है ।
पीडि़त उद्यमी ने कहा कि पुलिस ने उनके बेटे के विरूद्ध दिल्ली के एक कोठी की धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया जबकि दिल्ली में उनके नाम पर कोई जमीन नहीं है। उन्होंने कहा पुलिस द्वारा अब तक दर्ज किए सभी झूठे मामले रद्द हो चुके हैं लेकिन विधायक व कुछ असमाजिक तत्वों द्वारा उनकी जमीनों को हड़प किया जा रहा है। पीप्पल सिंह सिद्ध ने पंजाब पुलिस महानिदेशक से उन पुलिस अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग की है जिन्होंने उसके विरूद्ध झूठे मामले दर्ज करके परेशान किया और उसका करोड़ों रुपए का बिजनेस ठप कर दिया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि अगर कोई मेरा और मेरे परिवार पर का जानी  माली नुकसान होता है तो उसका जिम्मेदार भी विधायक कुलबीर जीरा, उसके साथी और जो मेरे पर झूठे मामले दर्ज करने वाले पुलिस अधिकारी होंगे।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.