“कमियां हमेशा खुद में ढूंढो”

1
1509
कमियां हमेशा खुद में ढूंढो,
औरों में सदा ढूंढो अच्छाई ।
झांक कर अपने मन में देखो,
खुद जान जाओगे सच्चाई ।
        काम करने से हमेशा नाम होता है,
        दोष निकालने से नुकसान होता है।
        चेहरे से किसी के कब पता चलता है,
        अच्छा व्यव्हार ही पहचान बनता है ।
तन की बनावट हर एक की अलग होती है,
बनावट पतली, तो किसी की मोटी होती है।
सुंदरता किसीके तन से नहीं मन से होती है,
बुराई बस देखने वालों की नज़र में होती है।
बृज किशोर भाटिया,चंडीगढ़

1 COMMENT

  1. I do not even know how I ended up here, but I thought this post was good. I don’t know who you are but certainly you’re going to a famous blogger if you are not already 😉 Cheers!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.