सामाजिक दायित्व का निर्वाह करते हुए मॉडल इकोनॉमिक टाउनशिप लि. एवं रिलायंस फाउंडेशन के सहयोग से दिव्यांग पार्क का निर्माण

0
124
पंचकूला
26 सितंबर 2019
दिव्या आज़ाद
रिलायंस  द्वारा स्थापित  की जा रही माडल इकोनोमिक टाउनशिप अपने शुरूआती दिनों से ही सामाजिक दायित्वों के प्रति समर्पित रही है। अपने सामाजिक दायित्वो को पूरा करने के लिए परियोजना क्षेत्र में रिलायंस फाऊंडेशन के सहयोग से 20 ग्रामों में स्वास्थ्य, शिक्षा, जल संरक्षण, महिला सशक्तिकरण, कौशल प्रशिक्षण तथा रोजगार एवं ढांचागत विकास के अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रम निरंतर आयोजित किये जा रहे है।
पंचकूला में दिव्यांग बच्चों हेतु विशेष पार्क का निर्माण

रिलायंस फाउंडेशन के अधिकारी रोमल राजेन ने आज यहां आयोजित एक पत्रकार वार्ता में उक्त जानकारी देते हुए बताया कि अपने सामाजिक दायित्व के अंतर्गत रिलायंस द्वारा हरियाणा सरकार के अनुरोध पर पंचकूला शहर में स्थित सेक्टर 5 स्थित टाउनपार्क में 0.5 एकड़ में अनूठा प्रयोग कर दिव्यांग बच्चों हेतु आवश्यकता अनुरूप विशेष रूप से तैयार किये गये झूलों के माध्यम से पार्क का निर्माण कार्य कराया गया। यह पार्क उत्तर भारत में अपनी तरह का पहला दिव्यांग पार्क होगा जिसका मुख्य उद्देश्य दिव्यांग बच्चों को मुख्यधारा में जोडना एवं सामान्य बच्चों के तरह झूलों का आनंद लेकर अपनेे जीवन में एक नई दिशा प्रदान करना है। इस पार्क में विभिन्न प्रकार के झूलों  का उपयोग किया गया है जिसमें विशेष आवश्यकता वाले बच्चे अपने व्हीलचेयर के माध्यम से इन झूलों का आनंद ले सकेगे। इस पार्क में दिव्यांग बच्चें 16 (व्हील चेयरस्पीनर, र्स्वीग, टेरमपोलिन, रोलरबैड, बास्केट स्पीनर, जायलोफोन, टेमबोस, रंगीन लालीपॉप, टेलीफोन पाईप, सिंबल मशरूम, ड्रम, वोबली बास्केट, स्लाईड, टनल एवं माउड्स) विभिन्न प्रकार के झूलों का उपयोग कर सकेगें। पार्क में दिव्यांग बच्चों हेतु एक बायोटायलेट एवं पीने के पानी हेतु भी प्रावधान किया गया है। इस पार्क  के निर्माण में सामाजिक न्याय एवं कल्याण विभाग तथा उद्यानिकी विभाग का विशेष सहयोग रहा। यह पार्क निश्चित ही दिव्यांग बच्चों हेतु एक अदभुत उदाहरण प्रस्तुत करेगा।

मॉडल इकोनॉमिक टाउनशिप प्रगति की राह पर-
मॉडल इकोनॉमिक टाउनशिप की स्थापना रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा एकीकृत औद्योगिक क्षेत्र के रूप में हरियाणा के झज्जर जिले में की जा रही है। हरियाणा सरकार  ने मॉडल इकोनॉमिक टाउनशिप लि. को अब तक 1700 एकड़ जमीन के लिए औद्योगिक लाइसेंस प्रदान किया है। ये लाइसेंस हरियाणा उद्यम प्रोत्साहन नीति 2015 के तहत दिए गए हैं।
मॉडल इकोनोमिक टाउनशिप में इस समय  6 कम्पनियों पैनासोनिक इंडिया, डेंसो, रिलायंस रीटेल, ऑलकार्गो, इंडोस्पेस और अम्बर जैसे अग्रणी संस्थानों ने उत्पादन कार्य प्रारंभ कर दिया है, कुछ और इकाइंयों का निर्माण कार्य चल रहा है। सरकार भी क्षेत्र के आर्थिक विकास हेतु विभिन्न प्रयास कर रही है जिसमें परिवहन  की  सुविधा, पानी की उपलब्धता तथा रोड का विस्तार मुख्य  कार्य है।
इसके अलावा 120 से ज्यादा कंपनियों  ने अपनी विनिर्माण इकाइयों  की स्थापना  के लिए एग्रीमेंट किये है, ये इकाइयां आने वाले दो वर्षों में अपनी निर्माण गतिविधियां शुरू करेंगी। मॉडल  इकोनोमिक टाउनशिप में  कार्यरत कंम्पनियों में इस समय लगभग 5000 आदमी कार्यरत है, इसमें से लगभग 30 प्रतिषत हरियाणा के मूल निवासी है। क्षेत्र में विभिन्न कंम्पनियों  के आने से हर वर्श लगभग 5000 स्थानीय  नवयुवकों हेतु रोजगार  के सुनहरे अवसर उत्पन्न होगे साथ ही क्षेत्र में लोगों को अपना स्वरोजगार करने का मौका मिलेगा, जिससे इस क्षेत्र के आर्थिक विकास में प्रगति आएगी।

स्मार्ट सिटी का निर्माण-
पंचकूला का विकास एक स्मार्टसिटी के रूप मे किया जा रहा है । यह सिटी पर्यावरण के अनुकूल एवं सतत विकास के चरण में एक पहल है। इस प्रोजेक्ट की परिकल्पना पूरी तरह से एकीकृत औद्योगिक टाउनशिप के रूप में की गई है। इसके लिए  भौतिक, संस्थागत, सामाजिक और आर्थिक बुनियादी ढॉंचे का व्यापक विकास किया जा रहा है। इस सिटी में एकीकृत कमाड सेंटर की स्थापना भी की जाएगी। ये सभी सुविधाएं जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने एवं लोगों और निवेशको आकर्षित करने, विकास एवं प्रगति के एक गुणीचक्र की स्थापना करने में महत्वपूर्ण है। स्मार्ट सिटी का विकास इसी दिशा में एक कदम है। इसमें औद्योगिक भूखंड होंगे किफायती औद्योगिक आवास भूखंड, सामान्य आवासीय  भूखंड, वाणिज्यिक भूखंड  और आवश्यक सामाजिक और भौतिक बुनियादी ढॉंचे जैसे स्कूल, औषधालय, क्लब/सामुदायिक केंद्र, स्वास्थ्य केंद्र, नर्सिंग घरों, धार्मिक भवन, टैक्सी/ बस स्टैंड और कंद्रीय ग्रीन के लिए आवासीय क्षेत्र और फायर टेंडर, फ्यूल स्टेशन/ ट्रक पार्किंग, पुलिस पोस्ट और औद्योगिक क्षेत्र के लिए सामुदायिक भवन के लिए  जगह उपलब्ध कराई गई है। इसमें पर्यावरण का विषेश रूप से घ्यान रखा जायेगा तथा इसमें समुचित तौर पर सडक एवं भूमिगत बिजली  की व्यवस्था, भूमिगत  सीवरेज प्रणाली एंव पानी की व्यवस्था की जा रही है।

बिजली एवं पानी की आपूर्ति-

24/7 बिजली  की आवश्यकताओं को दो अलग-अलग वितरण ग्रिड से पूरा किया जाएगा ताकि हर समय बिजली  की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकें।  220 केवी सबस्टेशन  और 33 केवी स्टेशन पर काम चल रहा है। मैसर्स सीजी पावर कंपनी 220 केवी जीआईएस सब स्टेशन का निर्माण कर रही है। लगभग 33 / 11 केवी जीआईएस क्षमता के 10 सबस्टेशन और इसके वितरण नेटवर्क का निर्माण प्रथम चरण में औद्योगिक इकाइयों को बिजली वितरित करने के लिए किए जाने  की योजना है।

वर्तमान में 33 / 11 केवी जीआईएस क्षमता के 2 सब स्टेशन का निर्माण प्रगति पर है मैसर्स सीमेंस को यह कार्य दिया गया है । पहले 33 / 11 केवी जीआईएस सबस्टेशन  के अक्टूबर  2019 तक तथा दूसरे  33 /11 केवी सबस्टेशन  दिसंबर 2019 तक चालू होने की उम्मीद है।

राज्य  सरकार  ने एनसीआर  जल चैनल से परियोजना  के लिए 100 एमएलडी पानी की आपूर्ति आवंटित की है। वॉटर ट्रीटमेंन्ट प्लांट और सीवेज ट्रीटमेंन्ट प्लांट दोनों का कार्य प्रगति पर है। समुदाय  की दूरसंचार   आवश्यकताओं की  पूर्ति रिलायंस जीयो द्वारा की जाएगी।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.