पंचामृत से होगा भगवान का स्नान, 56 व्यंजनों से लगेगा भोग

चैतन्य गौड़ीय मठ में धर्म सभा के दूसरे दिन हरी नाम के महत्व पर हुई चर्चा

2
1645
Photo By Vinay Kumar

चंडीगढ़

2 अप्रैल 2017

दिव्या आज़ाद

आज श्री चैतन्य गौड़ीय मठ सेक्टर-20 चंडीगढ़ के 47वें वार्षिक धर्म सम्मेलन में आयोजित धर्म सभा का दूसरा दिन था। धर्म सभा का मुख्य विषय रहा भगवत् प्राप्ति का सबसे आसान तरीका श्री हरी नाम है। इस धर्म सभा में कोलकाता से आए आचार्य महाराज, दिल्ली से आए महावीर महाराज और वृंदावन से आए भिक्षुक महाराज ने कथा बोली। उन्होंने कहा कि केवल हरी नाम करने से ही भगवान की प्राप्ति हो सकती है और जीवन का कल्याण हो सकता है।
धर्म सभा के दूसरे दिन सभा की अध्यक्षता गिरधारी लाल जिंदल (चेयरमैन, राम देवी जिंदल ग्रुप ऑफ़ कॉलेजस) ने की। उन्होंने कहा कि समाज को सही दिशा भगवत् भगवान के प्रेम से दी जा सकती है और समाज को एक सूत्र में जोड़ा जा सकता है। मुख्य अतिथि अजीत बालाजी जोशी, आई.ए. एस, डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि समाज को एक सूत्र में जोड़ने के लिए धर्म की आवश्यकता है। मठ की महिला विंग, सांस्कृतिक विंग की महिलाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया। सैंकड़ों लोगों ने भंडारा ग्रहण किया।

कल सोमवार को भगवान चैतन्य महाप्रभु और राधा माधव जी का पंचामृत से स्नान किया जाएगा, 56 व्यंजनों का भोग लगाया जाएगा,  101 दीपों से आरती उतारी जाएगी और हज़ारों लोगों के बीच प्रसाद वितरित किया जाएगा। कल 3 बजे बच्चों के लिए धार्मिक ड्राइंग प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है जिसमें 3 ग्रुप बनाए गए हैं। 4 से 7 वर्ष, 7-9 वर्ष, 9-14 वर्ष तक के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। सभी बच्चों को प्रमाण पत्र दिए जाएंगे व प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर आने वाले बच्चों को अवार्ड दिया जाएगा।
5 अप्रैल को प्राइज डिस्ट्रीब्यूशन कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

2 COMMENTS

  1. You actually make it seem so easy with your presentation but I find this matter to be really something that I think I would never understand. It seems too complicated and very broad for me. I am looking forward for your next post, I will try to get the hang of it!

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.