किशनगढ़ गांव में पेयजल संकट, लोग टैंकरों से भर रहे पानी : न्यू कांग्रेस पार्टी

0
435

मनीमाजरा

30 मई 2021

दिव्या आज़ाद

न्यू कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष विवेक हंस गरचा किशनगढ़ व दड़वा के कई इलाकों में पानी की सप्लाई पूर्ण रूप से ना आने के कारण इलाके का दौरा किया स्थानीय लोगों को विवेक हंस गरचा ने टैंकरो द्वारा पानी मुहैया करवाया | विवेक हंस गरचा ने कहा कि चंडीगढ़ नगर निगम चंडीगढ़ के गांव के लोगों को 24 घंटे पानी मुहैया करवाने की प्लानिंग पिछले कई साल से करता चला आ रहा है। लोगों को 24 घंटे तो पता नहीं कब पानी मिलेगा, लेकिन इसके विपरीत अब हालात ये हो गए हैं कि जो लोगों को सुबह शाम दो से तीन घंटे पानी मिलता था वह भी अब पूरा मिलना बंद होता जा रहा है। दड़वा गांव के बाद अब किशनगढ़ में भी पानी का संकट छा गया है। लोगों को पानी की सप्लाई देने के लिए गांव में टैंकर भेजे जा रहे हैं। पानी न आने से लोग इस कदर परेशान हैं कि गर्भवती महिला को भी वाटर टेंडर से बाल्टी में पानी भरकर घर ले जाना पड़ता है। स्थानीय लोगों ने

न्यू कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) युवा प्रकोष्ठ के केंद्रीय अध्यक्ष विवेक हंस गरचा को अपनी परेशानियां बताई उन्होंने कहा कि कांग्रेस व भाजपा नेताओं ने केवल सत्ता प्राप्ति की राजनीती कर गावों के विकास के लिए मिलने वाली ग्रांट के पैसे से केवल अपनी तिजोरियां भरी हैं स्थानीय लोगों की दैनिक सुविधाओं के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाये लोगों का कहना कि इन दिनों लो प्रेशर पानी आने से लोगों को पूरा पानी नहीं मिला रहा है। मकान नंबर 1 से 600 तक के लोग पानी की बूंद-बूंद के लिए परेशान हो रहे हैं। ऐसे में इन मकानों में रहने वाले सभी लोगों को अपनी जरूरत का पानी वाटर टैंकरों से भरना पड़ रहा है। शनिवार शाम को भी लोगों ने वाटर टैंकर के सामने घंटों लाइनों में खड़ा होकर पानी भरा। गांव में पानी की समस्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। जो किशगनढ़ और भगवानपुरा के गांव की आबादी के हिसाब से पूरा पानी नहीं दे पाते हैं। लोग पानी न मिलने से बहुत परेशान हैं, जबकि प्रशासन और निगम के अधिकारी हाथ पर हाथ रख कर बैठे हैं।


वहीं, न्यू कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) कार्यकर्ता अजित यादव ने बताया कि हर बार गर्मी में चंडीगढ़ की कॉलोनियों और गांव के लोगों को जल संकट झेलना पड़ता है। नगर निगम और प्रशासन ने कभी भी इस समस्या को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाया।

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.