“अम्बियां “

0
920
      सोचा शोर शराबे का माहौल छोड़
      चलो कहीं आज सकून ढूंढने  चलें
      छोड़ आज दुनिया की भीड़ भाड़
      चलो कहीं दूर खुद से मिलने चलें
               सुनहले पलों को  कर याद
               बचपन में डुबकी लगाकर
               ढूंढें साथी बचपन के अपने
               वो ना जाने कहाँ छुपे जाकर
         वीरान सा लगता है ये बाग कितना
         जो गूंजा करता था किलकारियों से
         रोज़ खेलते ओर  गेंद गुम हो जाती
         जा ढूंढा करते थे  उसे क्यारियों से
              हरिया माली की कुटिया आज वहीं है
              आम का  बड़ा पेड़ भी आज वहीं है
              कच्ची अम्बियां देख कर  याद आया
              तोड़ अम्बियां माली को खूब भगाया
ठूंस  जेब में अम्बियां हम भाग जाते
हरिया  चिल्लाता पर हाथ ना आते
आज ना अम्बियां तोड़ने कोई आता
नां ही लठ लिए हरिया नज़र आता
             कुटिया से खांसने की आवाज़ आई
             सोचा चलो देखूँ अंदर कौन है भाई
             बजुर्ग लेटा था दरी जमीन पे बिछाई
             झुर्रियां चेहरे पर ओर दाड़ी बड़ आई
पास ही घड़ा था मैंने पानी ले उसे पिलाया
ज्वर से उसका शरीर उस वक्त तप तपाया
कोई पास नही था मैंने डॉक्टर को दिखाया
आंखें भर आईं जो उसने हरिया नाम बताया
             हरिया ने भीगी आंखों से आभार जताया
             उसे गले लगा मैंने खुद का परिचय कराया
             जेब में  पैसे थे जितने हरिया को दे आया
             बचपन की स्मृतियां ले वापिस घर आया
-बृज किशोर भाटिया,चंडीगढ़

LEAVE A REPLY

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.